हम सभी अपने जीवन में हर कुछ चाहते है और यह कि हर कुछ चीज वस्तुतः हर एक वस्तु के लिए आती है, जिसके बारे में हम सोच सकते हैं या उसके बारे में हमने कभी सुना हैं। मनुष्य में चीजों को इकट्ठा करने की प्रवृत्ति होती है, चाहे वे इसका उपयोग करें या न करें लेकिन यह देखकर और जानकर अच्छा लगता है की आपकी सूची में वह वस्तु टिक मार्क है । जीवन केवल भौतिक सुख ही नहीं है वरण हमें स्वास्थ्य, संबंध, सम्मान, सद्भावना और सफलता जैसी कई अमूर्त चीजों की भी आवश्यकता होती है।

असल में जीवन क्या है?

जीवन जिज्ञासाओं का नाम है जिसे हम प्रश्नों के रूप में बेहतर जानते हैं। जब हमारे पास बहुत सारे प्रश्न होते हैं, तो हम उत्तर का पता लगाने की कोशिश करते हैं और इस उत्तर को खोजने के प्रयासों को जीवन कहा जा सकता है। आइए हम अपनी वास्तविक क्षमता की पहचान करने के लिए अपने दैनिक जीवन में स्वयं से प्रश्न करना शुरू करें।

कठिन प्रश्न जो जीवन को सरल बनाते है !

जीवन में प्रत्येक वस्तु का कुछ एक मूल्य हमे चुकाना पड़ता है चाहे वह आप किसी अवसर ,सुविधा या फिर सम्बन्ध के रूप में ही चुकाना पड़े | ज्यादातर समय हम खुद को कभी न खत्म होने वाली इच्छाओं के जाल में फँसा हुआ पाते हैं जो हमें पहले से कहीं अधिक कमजोर बना देता है। अधिकांश समय हम आवश्यकता और इच्छा, आवश्यक या अनावश्यक के बीच भ्रमित हो जाते हैं। इसी भ्रम में पड़कर हम स्वयं को प्रश्न करना बंद कर देते है | अपने आप को चुनौती देने से हम वास्तविकता के और नजदीक आ जाते हैं। इसलिए अपने वास्तविक आंतरिक बोध को महसूस करने के लिए अपने आप से सवाल करना शुरू करें।

अपरिहार्य से कैसे बचें

हम शांति और संतुष्टि की भावना रखने के लिए अपने दैनिक जीवन में अपरिहार्य से कैसे बच सकते हैं? कुछ ऐसे प्रश्न हैं जो हमारी जीवन यात्रा की दिशा तय करते हैं, अगर हमें लगता है कि हम सही रास्ते पर नहीं जा रहे हैं, तो थोड़ा आत्म-मूल्यांकन करके हर कदम पर जीवन पथ में सुधार संभव है, चलिए अपने आप से कठिन प्रश्न करना शुरू करते हैं जिससे हमारा जीवन अदम्य साहस और खुशी पूर्ण बनता है ।

आप खुद को समाज में कहां देखते हैं और क्या बनना चाहते हैं?

मनुष्य एक सामाजिक प्राणी है और इस दुनिया में हम सभी को हमारी तरह के ही लोग इस संसार में चाहिए। हम सभी अपने जीवन में किसी न किसी से प्रेरित होकर उसके जैसे बनाना चाहते है और अधिकांश समय यह प्रेरणा हमारे आस-पास से ही मिलती है। बचपन के उन दिनों को याद करें जब आपके दैनिक जीवन का सबसे आम सवाल हुआ करता था की आप बड़े होकर क्या बनना चाहते हैं? चाहे अनचाहे आप डॉक्टर, इंजीनियर, पायलट आदि जैसे कुछ जवाब दे देते थे क्योकि समझ में उन्ही लोगो से सबसे ज्यादा प्रेरणा मिलती हैं।

अब स्थिति बदल गई है, आपने चीजों को परखने और समझने के लिए अपनी बुद्धि एवं अनुभव का उपयोग करते है । अब आप तय कर सकते हैं कि आपके लिए क्या अच्छा है या बुरा। इसलिए उपरलिखित प्रश्न का उत्तर अत्यंत स्पष्टता और दृढ़ विश्वास के साथ जवाब दें क्योंकि जो आप अपने लिए सोचते है वही आप यही आप जीवन में बनते है । आप खुद को समाज में कैसे देखना चाहते हैं या आप किस प्रकार की भूमिका चाहते इसका उतर आप पूर्ण आत्म विश्वास के साथ दे और उसको प्राप्त करने का प्रयास करे |

आप जीवन के किस क्षेत्र में कार्य करना चाहते हैं?

यह बहुत ही कठिन सवाल है जिसका जवाब देने के लिए आपको अंतर्मन की खुशी के बारे में पता होना आवश्यक है। वह कार्य को जिसको करने में आपको खुशी का अनुभव होता है वह आपके प्रश्न के निपटान या कैरियर के क्षेत्र के लिए सबसे सरल उत्तर है। बहुत से लोग अपने आस-पास के लोगो , परिवार , माता पिता की इच्छा के अनुसार अपना कार्य क्षेत्र चुन लेते है चाहे उन्हें वह काम अच्छा लगे या नहीं , वे अंदर से खुशी महसूस नहीं करते हैं और हमेशा खुद को किसी ऐसी चीज से बंधा हुआ पाते है जिसे वे पसंद नहीं करते। तुम क्या चाहते हो – पैसा, प्रसिद्धि या खुशी ? यह पूरी तरह से आप पर निर्भर है।
ये सभी चीजें एक ही पैकेज में आ सकती हैं यदि आप बुद्धिमान हैं कि आप वास्तव में क्या करने का आनंद लेते हैं। एक गलत निर्णय से आप पूरे जीवन में जीवन को बेहतर बनाने के लिए एक शाखा से दूसरी शाखा पर आत्मसंतुष्टि की खोज में भटकते रहेंगे । अपनी पसंद पर जीना मुश्किल हो सकता है लेकिन यही आपकी पहचान होती है जो वास्तव में आपके भविष्य और आत्मा का निर्माण करती है जो आप वास्तव में हैं ।

आप अपने परिवेश को बेहतर कैसे बनाते हैं?

हम सभी के पास अपने समाज , देश के साथ साझा करने के लिए कुछ न कुछ होता है, यह आपकी विद्या से लेकर मौद्रिक मूल्य की वस्तुओं तक कुछ भी हो सकता है। आप अपने परिवेश को बेहतर कैसे बनाते हैं, पहले की तुलना में आपके होने से समाज में क्या सुधर आता है या रोज आप कैसे किसी चीज़ को बेहतर बनाने में अपना योगदान देते है यही आपको समाज का एक महत्वपूर्ण हिस्सा बनाता है और लोग आपके योगदान के लिए आपको महत्व देना शुरू करते हैं। हर कोई चाहता है कि वह अपने लक्ष्यों को प्राप्त करे और जो कोई भी इस कार्य में उनकी मदद करता है वह सदैव सम्मान का पात्र होता है |

आपको किस चीज़ से सर्वाधिक डर लगता है उस डर को दूर करने के लिए आपकी योजना क्या है?

डर अस्तित्व के लिए अच्छा है लेकिन इसमें यह आपको आपकी भी रखता वास्तविक क्षमता से दूर रखने की प्रवृत्ति है। जब तक आप डर का सामना नहीं करते तब तक अपनी सफलताओं को सही ठहराने के लिए आपके पास हमेशा एक बहाना रहता है की डर की वजह से नहीं कर पाया । अपने डर को पहचानें और उसे स्वीकार करें और इसे दूर करने के लिए योजनाएं बनाएं। हम सभी हर दिन कुछ सीखते हैं और सीखना स्वीकृति से शुरू होता है। कभी भी अपने डर को स्वीकार करने में संकोच न करें, हर दिन इसका सामना करें जब तक कि यह आपके जीवन में अन्य चीजों की तरह सामान्य न हो जाए। असफ़लताओँ के डर से लोग अपनी पूर्ण क्षमता का उपयोग नहीं कर पाते है| , जीवन में विक्लपों का सहारा लेने की बजाय अपने डर से जीतकर सफलता हासिल करना और भी आसान होता है |

क्या आप अपने जीवन मूल्यों के प्रति सच्चे हैं?

मनुष्य वातावरण एवं परिस्थितियों के अनुसार अपनी प्रवर्ति बदलने में निपूर्ण होता है लेकिन जीवन मूल्यों के प्रति ईमानदार रहना बहुत महत्वपूर्ण है। जब हम एक जीवन लक्ष्य निर्धारित करते हैं तो हम वह निर्णय को अपने जीवन मूल्यों के आधार पर लेते हैं और हमारे प्रयास उस के अनुसार ही किये जाते हैं। अपने व्यवहार में इसे सुदृढ़ करने के लिए प्रतिदिन अपने आप से सवाल कीजिये यह आपका लक्ष्य आपके लिए और भी स्पष्ट कर देगा ।

यदि आप अपने लक्ष्यों को प्राप्त करते हैं तो आप कैसा महसूस करेंगे, उस भावना को विकसित करने के लिए आप अभी क्या कर सकते हैं?

अपनी गतिशील प्रकृति के कारण एक बहुत ही अनिश्चित प्रश्न है, किसी समय हम कुछ चाहते हैं, और जैसे ही हम उस स्तर पर पहुंचते हैं, अचानक हमारी जरूरत बदल जाती है। यह प्रश्न उस तीव्रता और लगन को दर्शाता है जिससे आप अपने लक्ष्य प्राप्ती के लिए खुद को समर्पित कर सकते हैं।

आपको वांछित कार्यो को पूर्ण करने में मुख्य बाधाये क्या है ?

हम सभी जानते हैं कि किसी बीमारी का पता लगना ही आधा इलाज होता है, एक विस्तृत जाँच बीमारी के इलाज के लिए आपके सामने अनेक विकल्प खोलती है । रोजमर्रा की जिंदगी भी इसी तरह की एक ही प्रक्रिया है,आपके संसाधन और आवश्यकताओं का सही मूल्यांकन आपको सही निर्णय लेने में सक्षम बनाता है | प्रश्न करें स्वयं से की आपको लक्ष्य प्राप्ति के लिए क्या चाहिए और उसकी प्राप्ति कैसे करनी है | इस सवाल का जवाब जो आपको आपके सपने के ओर भी निकट ले आएगा ।

स्वयँ से प्रश्न करना आत्म मूल्यांकन का सबसे बेहतरीन तरीका है , कुछ समय आप बिना कुछ कार्य करे सिर्फ मनन करे अपने आपसे सवाल करे और उन सवालो का जवाब तलाशे | अपनी जिज्ञाषाओ को शांत करना ही जीवन का आधार है इस आधार को मजबूत करे और अपने लक्ष्य प्राप्ति के लिए आगे बढ़े |

You may also Like

  1. Career Decision Should You listen to Your Heart or Head ? 
  2. Success too have a Darker Shade
  3. Why Sex Education is still a taboo in India ?
  4. क्या क्रिप्टोकरेंसी ही मुद्रा का भविष्य है ?
  5. भारत की कोरोना प्रतिक्रिया कितनी सही कितनी गलत ! 
  6. Current Affairs Quiz 10 April
  7. Is India Overreacting to Corona ? 

 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

three × 1 =