कोरोना महामारी ने सम्पूर्ण विश्व को अपनी गिरफ्त में ले लिया है | एशिया के चीन से शुरू हुआ इसका सफर खत्म होने का नाम नहीं ले रहा है दुनिया के लगभग सभी देशो को इस महामारी ने घेर लिया है | हर दिन यह महामारी किसी ना किसी नए देश या प्रान्त को अपनी गिरफ्त में ले रहा है | अंतराष्ट्रीय संस्थाए इसकी रोकथाम के लिए जोर शोर से प्रयासरत है | हाल ही में हुए G -20 देशो के एक वर्चुअल सम्मलेन में इस महामारी से निपटने के लिए 5 ट्रिलियन डॉलर के निवेश की घोषणा की है | इस महामारी से पीड़ित हर देश, देशव्यापी बंद (Countrywide Lockdown ) करके कोरोना के संक्रमण को रोकने का भरसक प्रयास कर रहा है |

लॉक डाउन होता क्या है ?

बंद एक आपातकालीन उपाय या स्थिति है जिसमें लोगों को किसी खतरे के दौरान अस्थायी रूप से अपना स्थान छोड़ने से प्रतिबंधित कर दिया जाता है ताकी प्रशासन द्वारा समय रहते खतरे से निपटा जा सके

लॉक डाउन की स्थिति में आवश्यक सेवाओं (चिकित्सा सेवाएं ,आवश्यक वस्तुओं दूध, सब्जी,राशन,बिजली ,पानी , )के अलावा सभी प्रकार की गतिविधियों को प्रतिबंधित कर दिया जाता है | लॉक डाउन की स्थिति में सिर्फ पूर्व लिखित अनुमति होने के बाद ही कोई व्यक्ति विशेष सिर्फ आवश्यक सेवाओं की पूर्ति हेतु निकल सकता है यदि कोई इस बात का पालन नहीं करता तो प्रशासन ऐसे व्यक्ति या संस्था के खिलाफ क़ानूनी करवाई है |

कैसे फैलता है कोरोना वायरस

कोरोना वायरस का अभी तक कोई इलाज नहीं है इसका संक्रमण संक्रमित मानव से दूसरे स्वस्थ मानव में शारीरिक द्रव्यों (मुँह, नाक , लार ) द्वारा होता है | यह कोरोना वायरस बिना मानव शरीर के सिर्फ कुछ घंटो तक जीवित रहता है जब हम किसी अपने आपको लॉक डाउन या सोशल आइसोलेशन (सामाजिक अलगाव )
लॉक डाउन का असर समझने से पहले हमे समझना होगा की कोरोना वायरस का जीवन काल कितना है

  1. खुली हवा में – 3-4 घंटे
  2. सख्त चिकनी संक्रमित सतह (स्टील, काँच , मार्बल ) – 72 घंटे
  3. सामान्य सख्त सतह (कार्डबोर्ड, कागज , कपडा )- 24 घंटे

अब आप समझ गए होंगे की सामाजिक अलगाव में रहने से इस वायरस के संक्रमण बिना किसी दवा के बचा जा सकता है |

चीन लॉक डाउन की सफलता की कहानी

चीन के सरकारी आंकड़ों के आधार पर कोरोना वायरस के पहले केस दिसंबर 2019 में दर्ज हुआ तथा चीन ने इसके बाद से आवश्यक कदम उठाने स्टार्ट किये | 23 जनवरी 2020 को चीन ने देशव्यापी लॉक डाउन का ऐलान कर दिया और पुरे दो महीने के बाद अब इस लॉक डाउन को खोलने की प्रकिर्या शुरू की है |

प्रारंभ में लोगों को उनके घरों से बाहर निकलने की अनुमति दी गई थी, लेकिन जल्द ही प्रतिबंध कड़े हो गए। कुछ क्षेत्रों में जरूरत के सामान खरीदने के लिए हर दो दिन में एक परिवार के सदस्य तक सीमित होते हैं। अन्य लोगों ने निवासियों को छोड़ने से रोक दिया, जिससे उन्हें भोजन और अन्य आपूर्ति के लिए कोरियर से ऑर्डर करने की आवश्यकता हुई।

चीन ने लॉक डाउन से पहले, वैज्ञानिकों ने अनुमान लगाया था कि प्रत्येक कोरोनोवायरस संक्रमित व्यक्ति दो से अधिक अन्य लोगों को संक्रमण पारित कर देता है, जिससे यह तेजी से फैलने की क्षमता को बल देगा । बीमारी के प्रसार के शुरुआती मॉडल, जो रोकथाम के प्रयासों में कारक नहीं थे, ने सुझाव दिया कि कोरोना वायरस चीन की आबादी का 40% – लगभग 500 मिलियन लोगों को संक्रमित करेगा।

लॉक डाउन का असर

2 महीने के लॉक डाउन के बाद पिछले 5 दिन से चीन में किसी भी नए संक्रमण की सुचना दर्ज नहीं हुयी |इससे यह स्पष्ट है कि इस लॉक डाउन के समय के दौरान लागू किए गए उपायों ने बखूबी अपना काम किया है और सामाजिक अलगाव एवं लॉक डाउन कोरोना वायरस से बचने की एक प्रभावी प्रक्रिया है जीवन फिर से अपनी सामान्य गति पर आ रहा है | चीन का वुहान शहर जो इस महामारी का उद्गम स्थल माना जा रहा है को भी 8 अप्रैल तक पूर्ण रूप से सभी सुविधाओं और कामकाजी रूप से सामान्य कर देने का प्रयास है |

लॉक डाउन के समय को बढ़ाये जाना रोकथाम में कैसे कारगर होगा ?

अभी तक चीन के अलावा किसी भी देश ने कोरोना महामारी की चपेट में आने के बाद वापस से जनजीवन को सामान्य करने के निर्णय नहीं लिए है बल्कि सब देश आये दिन कुछ न कुछ नए प्रतिबन्ध लगा रहे है |

मानव शरीर के स्वयं की रोग प्रतिरोधक क्षमता के अलावा कोरोना वायरस का कोई इलाज नहीं है | वैज्ञानिको का मानना है सभी लोगो की कोरोना वायरस के संक्रमण की जाँच करना संभव नहीं है सिर्फ लॉक डाउन ही एक प्रभावी इलाज है | लॉक डाउन का अगर सही से पालन किया जाये तो लगभग 45 दिन में इस महामारी से छुटकारा पाया जा सकता है | इन्ही बातों को एवं भारत की वर्तमान स्थिति को देखते हुए लग रहा है की देश की इतनी बड़ी आबादी को लॉक डाउन का समय बढ़ाकर ही काबू में लाया जा सकता है वर्ना 130 करोड़ की आबादी में यह महामारी क्या तांडव मचायेगी इसकी परिक्लपना मात्र से ही रोंगटे खड़े हो जाते है |

You may Like other quiz

  1. विश्व अर्थव्यवस्था ने किया वैश्विक मंदी में प्रवेश IMF ने की पुष्टि
  2. Current Affairs Booster Quiz 28 March
  3. IMF Confirms Global Recession 2020
  4. Daily Current Affairs Booster Quiz 27 March
  5. Scorecard for Your Good or Bad Habits
  6. Current Affairs Booster Quiz 26 March
  7. Success too have a Darker Shade
  8. You tube एवं Netflix नहीं देगा HD वीडियोस
  9. anta Curfew
  10. कौशल सतरंग योजना 2020
  11. UPSC Recruitment 2020 for Various Posts
  12. जीरो बैलेंस  Saving Account  SBI
  13. कर्मचारी कल्याण विधेयक 2020

 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

twelve − 10 =